प्रतिकूलता में भी प्रसन्न रहने की कला- जैन साधु जीवन |53rd Diksha Jayanti of 8 Mahasatijis| 5 May,21